Saturday, 3 January 2015







                                                                     
                                                                       


                                                                   यूँ ही मत जी 


ज़िन्दगी तेरी लौ के 

ढंग भी निराले हैं,

कितनी भी आँधियाँ आएं,

बुझती ही नहीं तू...

बस लड़खड़ा के रह जाती है...

या तो हवा की फूँक में दम कम है,

या तेरी ज़िंदा रहने की भूख है ज्यादा...

चल अब जी ही रही है तो,

रोशनी भी बिखेर कुछ....

No comments:

Post a Comment