Wednesday, 4 June 2014

प्यार का रंग ....
सुबह से शाम तक,
सूरज और मैंने पुरुक्षार्थ किया,
शाम ने सुरमा लगाया,
तो पक्षी घर को लौटे,
मैं भी लौटा |

श्रम-स्वेद की गंध से,
गर्वित तन था,
जेब में उस पसीने से,
अर्जित धन था....
 उत्साहित पगों से,
मैं घर की और बढ़ रहा था,
पिया मिलान के,
सुन्दर सपने ,
बुन रहा था |

उसके हाथ पर जब ये
रूपये रखूंगा,
उसकी आँखे ख़ुशी से
चमक उठेंगी |
वो गर्व से मुझे निहारेगी ,
पंजों पर उचक कर,
मेरा माथा चूम लेगी |

मैं उसे आलिंगन में,
जकड़ लूँगा,
वो मेरी बाहों में और सिकुड़ेगी |
उसके लिए नुक्कड़ से,
एक गज़रा ले लूँगा,
मोगरे से हमारे प्यार की,
खुशबू और बढ़ेगी |

घर पंहुचा, द्वार खटखटाया,
उसने खोला |
कुंवारी सुबह,
ज्यों सूरज को निहारती है,
उसने मुझे कुछ ऐसे ही देखा |

उसे सजा धजा देख,
मैं उत्तेजित हो गया,
और उसे बाहों में भर लिया |

वो कसमसाई , अपने चेहरे को,
और कुरूप किया
और झटक कर,
अपने को मुझसे छुड़ा लिया |

'कितनी बदबू आ रही है तुमसे...पहले नहा कर आओ '
मैं अवाक रह गया,
अचंभित मूक आगे बढ़ा ,
घुसलख़ाने में खुद को,
बंद कर फफक कर रो पड़ा |
आंसुओं ने प्यार के,
कच्चे रंग को धो दिया |

                 ---गौरव शर्मा

No comments:

Post a Comment